Sunday, April 25, 2010

तुम भी ना बस बुरा मान जाते हो

फत्तू एक दिन देर से घर पहुंचा तो उसके पिता रलदू ने पूछा - कहां था?
फत्तू - दोस्त के घर पर
रलदू ने उसके दस दोस्तों को फोन कर-करके पूछा। पांच ने कहा "हां, मेरे साथ था"। यही होते हैं सच्चे दोस्त।
--------------------------------------------------------------------------------
फत्तू चौधरी फोन पे बात कर रहा था।
सत्तू  - किससे बात कर रहे हो।
फत्तू - बीवी से
सत्तू - इतने प्यार से
फत्तू - तुम्हारी है
--------------------------------------------------------------------------------
सुहागरात की अगली सुबह  सहेली ने दुल्हन से पूछा - कैसा रहा, कैसा महसूस हुआ
दुल्हन - बहुत बढिया, कालेज के दिन याद आ गये
--------------------------------------------------------------------------------
मास्टरजी - दुनिया गोल है
फत्तू - लेकिन पिताजी तो कहते हैं कि दुनिया बडी कमीनी है
--------------------------------------------------------------------------------
लडका - आई लव यू
लडकी - बट आई डोन्ट
लडका - वेटर, बिल अलग-अलग लाना
लडकी - आई लव यू-आई लव यू-आई लव यू, तुम भी ना बस बुरा मान जाते हो
--------------------------------------------------------------------------------
लडका - मैं तुम्हारे लिये सब छोड दूंगा
लडकी - मां-बाप
लडका - हां
लडकी - अपने दोस्त
लडका - हां
लडकी - घर-बार
लडका - हां
लडकी - दारू-सिगरेट
लडका - दीदी घर जाओ, आपके पापा परेशान हो रहे होंगें

14 comments:

  1. लडका - दीदी घर जाओ, आपके पापा परेशान हो रहे होंगें
    हा हा हा ...अच्छा है .... चुलबुले और गुदगुदाने वाले चुटकुले अच्छे लगे ... निरंतरता बनाए रखें ..... बधाई

    ReplyDelete
  2. haa haa haa :D:D bahut hi mazedarhttp://dilkikalam-dileep.blogspot.com/

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर जी...सही बताई सच्चे दोस्तो की पहचान

    ReplyDelete
  4. हा हा हा सिगरेट दारू की कुर्बानी से अच्छा है कि फ़ट से दीदी बना लिया जाए

    ReplyDelete
  5. बहुत सही.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. सभी एक से बढ़कर एक!

    दारू-सिगरेट भी क्या कोई छोड़ने की चीज है? :-)

    ReplyDelete
  7. वाह ! एक से बढ़कर एक हैं !
    शुभकामनायें

    ReplyDelete
  8. @ Lalit Sharma Ji

    Our door is always open for finest people in the world.
    आदरणीय ललित जी आपसे मिलकर बहुत खुशी हो्गी, जल्द बतायें कब आ रहे हैं जी

    @ नीरज भाई
    तन्नै तो घरवाली को बताने से भी पहलां बताऊंगा

    @ आदरणीय अवधिया जी
    इन जन्नती सुखों के लिये तो लोग अपने घर के घर उजाड देते हैं :-)

    ReplyDelete
  9. हा हा हा हा हा...जोक पढ़ते पढ़ते मुझे भी कालेज के दिन याद आगये...
    नीरज

    ReplyDelete
  10. मजेदार चुटकुले, नये-नये से।

    ReplyDelete

आप यहां अपनी बात कह सकते हैं।
धन्यवाद